1. बिहार सरकार ने की हिंदी सेवी सम्मान की घोषणा
  • बिहार सरकार ने हिन्दी सेवी सम्मान एवं पुरस्कार से अलंकृत 15 विभूतियों के नामों की घोषणा कर दी !
  • अपनी लेखनी के दम पर देश दुनिया में हिन्दी भाषा का परचम लहराने वाले 15 हस्तियों को सरकार सम्मानित करेगी. सृजनात्मक हिंदी लेखन के लिए डॉ विश्वनाथ प्रसाद तिवारी को डाॅ राजेन्द्र प्रसाद शिखर सम्मान से अलंकृत किया जायेगा. इन्हें 3 लाख रुपये की राशि भी दी जाएगी !
  • बिहार सरकार ने हिन्दी सेवी सम्मान एवं पुरस्कार से अलंकृत 15 विभूतियों के नामों की घोषणा कर दी. डॉ० विश्वनाथ प्रसाद तिवारी को डाॅ0 राजेन्द्र प्रसाद शिखर सम्मान, डॉ० अशोक कुमार को बाबासाहेब भीमराव अम्बेदकर पुरस्कार, मृणाल पाण्डेय को जननायक कर्पूरी ठाकुर पुरस्कार, सुशीला टॉकभोरे को बी0 पी0 मंडल पुरस्कार, कवि सत्यनारायण को नागार्जुन पुरस्कार, रामश्रेष्ठ दीवाना को राष्ट्रकवि दिनकर पुरस्कार, जाबिर हुसैन को फणीश्वर नाथ ‘रेणु’ पुरस्कार, डॉ० पूनम सिंह को महादेवी वर्मा पुरस्कार, केरल की वनजा को बाबू गंगा शरण सिंह पुरस्कार से अलंकृत किया जायेगा !
  • इनके अलावा हैदराबाद की दक्षिण भारतीय हिन्दी प्रचार सभा को विद्याकर कवि पुरस्कार, गीता श्री को मोहन लाल महतो वियोगी पुरस्कार, डॉ० राकेश कुमार सिन्हा रवि को भिखारी ठाकुर पुरस्कार, भगवती प्रसाद द्विवेदी को डाॅ0 ग्रियर्सन पुरस्कार, डॉ० छाया सिन्हा को डाॅ0 फादर कामिल बुल्के पुरस्कार और अनन्त विजय को विद्यापतिपुरस्कार से सम्मानित किया जाता है !
  • गौरतलब हो कि हिन्दी सेवी सम्मान एवं पुरस्कार योजना के अन्तर्गत अखिल भारतीय स्तर पर वरिष्ठ हिन्दी सेवियों को सम्मानित किया जाता है. ये पुरस्कार सृजनात्मक लेखन, पत्रकारिता, न्याय, प्रशासन या हिन्दी के प्रचार-प्रसार के क्षेत्र में विशिष्टतम योगदान हेतु दिये जाते हैं. इसके अंतर्गत कुल 15 पुरस्कार दिये जाते हैं !

 

  1. पटना के बाद अब गोपालगंज में खुलेगा राज्‍य का दूसरा आयुष अस्पताल !
  • बिहार के गोपालगंज में राज्‍य का दूसरा आयुष अस्‍पताल (Ayush Hospital) खोला जाएगा। केंद्र सरकार ने इसके लिए 40 करोड़ रुपये गोपालगंज जिला प्रशासन को आवंटित भी कर दिए हैं।
  • राज्‍य में एक आयुष अस्‍पताल पटना में चल रहा है। गोपालगंज के जनता दल यूनाइटेड सांसद डा. आलोक कुमार सुमन (JDU MP Dr. Alok Kumar Suman) ने इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की गोपालगंज को दी गई सौगात बताया है।
  • आयुष अस्‍पताल में एलोपैथ छोड़ आयुर्वेद (Ayurveda), होमियोपैथ (Homeopath), यूनानी (Unani), योगा (Yoga) आदि देशी चिकित्‍सा पद्धतियों से इलाज किया जाएगा। इसमें देशी पद्धतियों के प्रशिक्षित डाक्‍टरों व चिकित्‍साकर्मियों की टीम तैनात रहेगी।

गोपालगंज में बनेगा 50 बेड का आयुष अस्‍पताल

  • केंद्र सरकार का आयुष मंत्रालय गोपालगंज में 50 बेड का आयुष अस्‍पताल बना रहा है। इस इंटीग्रेटेड अस्‍पताल में आयुर्वेद, होम्योपैथ एवं योग सहित अन्य देशी चिकित्‍सा पद्धतियों से मरीजो का इलाज किया जाएगा। अस्‍पताल के लिए केंद्र सरकार ने 40 करोड़ का आवंटन कर दिया है। इसकी जानकारी देते हुए सासंद आलोक सुमन ने कहा कि अस्‍पताल के लिए गोपालगंज सदर प्रखंड के भीतभैरवा गांव के निकट मिशन के पास जमीन की मंजूरी की बाबत बिहार सरकार के पास प्रस्ताव भेजा जा चुका है। राज्‍य सरकार की मंजूरी मिलते ही अस्‍पताल निर्माण की प्रक्रिया आरंभ कर दी जाएगी।

 

 

  1. विश्व बैडमिंटन रैंकिंग में पहुंचीं बिहार की अंजना, टॉप 200 में पहुंचने वाली बनी बिहार की पहली खिलाड़ी !
  • बिहार की अंजना कुमारी ने विश्व बैडमिंटन रैंकिंग में 199वां स्थान पाकर राज्य को गौरवांवित किया है. बैडमिंटन में टॉप 200 रैंकिंग में पहुंचने वाली बिहार की पहली खिलाड़ी हो गयी हैं!
  • औरंगाबाद के दाउदनगर प्रखंड के रतनपुर की रहनेवाली अंजना ने 2012 में 12 वर्ष की उम्र में बैडमिंटन में अपने करियर की शुरुआत की और अपने प्रदर्शन से दो वर्ष के अंदर ही वह राष्ट्रीय स्तर पर गोवा राज्य का प्रतिनिधित्व करने लगीं.
  • साल 2015 से वह गोवा में अलग-अलग कैटेगरी में नंबर एक खिलाड़ी हैं. अंजना के पिता कौशलेंद्र कुमार गोवा के कस्टम कार्यालय में नौकरी करते हैं. कौशलेंद्र ने बताया कि मुझे खुशी होगी, अगर अंजना को बिहार से खेलने का मौका मिलता है.
  • अंतरराष्ट्रीय सर्किट में 2019 से की शुरुआत :
  • अंजना ने अंतरराष्ट्रीय सर्किट में अक्तूबर, 2019 से भाग लेना शुरू किया और कुछ ही प्रतियोगिताओं में भाग लेकर वह विश्व की श्रेष्ठ 250 खिलाड़ियों की सूची में शामिल हो गयी. अंजना विश्व रैंकिंग में शीर्ष 25 भारतीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ियों में भी शामिल हो गयी, जिसमें पूर्व नंबर एक खिलाड़ी और ओलिंपिक में कांस्य पदक विजेता साइना नेहवाल व ओलिंपिक रजत पदक विजेता पीवी सिंधु शामिल हैं!
  • कोरोना के कारण करीब एक साल स्थगित प्रतियोगिताओं के बाद फरवरी, 2021 से शुरू हुई प्रतियोगिताओं में भाग लेकर विश्व के शीर्ष 200 खिलाड़ियों में शामिल हो गयी हैं. अंजना भारतीय महिला खिलाड़ियों की सूची में भी 24वें नंबर से 18वें नंबर पर पहुंच गयी हैं.
  • 2015 नेशनल गेम्स के टीम इवेंट में जीता है कांस्य !
  • राष्ट्रीय स्तर पर अंजना का सीनियर कैटेगरी में बेहतरीन रैंक 27वां रहा है. अभी वर्तमान में राष्ट्रीय स्तर पर अंजना 48वें स्थान पर हैं. इस रैंकिंग तक अब तक कोई भी बिहार की खिलाड़ी नहीं पहुंच सकी है. 2018 में वर्ल्ड स्कूल फेडरेशन ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित अंडर-18 बालिका बैडमिंटन प्रतियोगिता के सेमीफाइनल में भारतीय टीम को हार का सामना करना पड़ा था. हालांकि, अंजना इस मुकाबले में अपने दोनों मैच सिंगल और डबल में फाइनल तक पहुंचने में सफल रही थीं.

 

 

  1. नहीं रहे बिहार के कला गुरु उमानाथ झा, पटना आर्ट कालेज के भी रह चुके थे प्राचार्य

कला गुरू के नाम से प्रसिद्ध और कला एवं शिल्प कालेज पटना के पूर्व प्राचार्य उमानाथ झा को मंगलवार को निधन हो गया। वे मूलरूप से चंपानगर के कोशकी नाथ झा लेने के रहने वाले थे। 93 वर्ष की उम्र में उन्होंने अपने पैतृक घर में देह त्यागा। वे कई वर्षों से बीमारी से जूझ रहे थे। बुधवार को बरारी श्मसान घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया।

 

दो नवंबर 1928 को जन्मे स्व. झा की प्रारंभिक शिक्षा दीक्षा सुखराज राय हाइ स्कूल नाथनगर से हुई। उन्होंने कला की शिक्षा विश्व प्रसिद्ध संस्थान शांति निकेतन से पूरी की थी। संघर्षों के साथ उनका सफर बड़ौदा आर्ट कालेज से शुरू हुआ। इसके बाद वे कला एवं शिल्प कालेज, पटना में बतौर शिक्षक योगदान दिया। वे कालेज में पांच वर्षीय स्नातक पाठ्यक्रम में टेम्परा चित्र शैली और लघु चित्र शैली (मैथर्ड एंड मैटेरियल) की कक्षाएं लेते थे। इसके बाद वे वहां प्राचार्य भी रहे। 1992 में वे सेवानिवृत होने के बाद अपने चंपानगर निवास में ही रह रहे थे।

 

  1. भारत और नेपाल के बीच जल्द शुरू होगी ट्रेन सेवा, 619 करोड़ का है प्रोजेक्ट !
  • भारत और नेपाल के बीच जल्द ही पटरी पर ट्रेन दौड़ेगी. बिहार के जयनगर से ट्रेन लाइन नेपाल से जोड़ी जा चुकी है. लगभग 619 करोड़ रुपये लागत से भारत-नेपाल मैत्री रेल परियोजना के तहत पहले चरण का काम तेजी से हो रहा है. रविवार को समस्तीपुर मंडल के जयनगर और नेपाल के कुर्था के बीच ट्रैक पर ट्रेन का स्पीड ट्रायल हुआ !
  • दोनों स्टेशनों के बीच करीब 50 किलोमीटर लंबे नव-आमान परिवर्तित रेलखंड पर लोकोमोटिव इंजन द्वारा 110 किमी प्रतिघंटा की गति से सफलतापूर्वक स्पीड ट्रायल किया गया. इस दौरान इरकॉन और नेपाल रेलवे के कई वरिष्ठ उच्चाधिकारी मौजूद रहे. उम्मीद जताई जा रही है कि जल्द ही इस रेलखंड पर ट्रेन सेवाएं शुरू होंगी. बता दें कि वर्ष 2014 से जयनगर- जनकपुर के बीच ट्रेनों का परिचालन बंद है. परिचालन फिर से शुरू होने की संभावना से सीमावर्ती भारत और नेपाल क्षेत्र के लोगों में इसको लेकर उत्साह है !

क्या है भारत-नेपाल मैत्री रेल परियोजना?

  • भारत-नेपाल मैत्री रेल परियोजना के तहत 619 करोड़ की अनुमानित लागत से कुल 08 किलोमीटर लंबी जयनगर-बिजलपुरा-बर्दीबास रेल परियोजना पर काम हो रहा है. पहले चरण में 34.50 किलोमीटर लंबा जयनगर-कुर्था (नेपाल) रेलखंड इसी प्रोजेक्ट का हिस्सा है. प्रोजेक्ट के पहले चरण में बिहार के मधुबनी जिले के जयनगर स्टेशन को नेपाल के कुर्था से जोड़ा जाना है. भविष्य में इसका विस्तार कुर्था से लगभग 18 किलोमीटर आगे बीजलपुरा तक किया जाएगा. बताया जा रहा है कि यह परियोजना दोनों देशों के लिए मील का पत्थर साबित होगी !

भारत से 2 डीएमयू ट्रेन खरीद चुका है नेपाल, जल्द बहाल होगी सेवा

  • रेलवे के मुताबिक, ट्रायल के बाद 21 जुलाई को इरकॉन इंटरनेशनल, दिल्ली मुख्यालय के कार्यकारी निदेशक सुरेंद्र सिंह नेपाल की राजधानी काठमांडू में परियोजना के पहले फेज के पूर्ण काम को नेपाल सरकार को हैंडओवर करेंगे. ट्रेन परिचालन को लेकर नेपाल सरकार ने कोंकण रेलवे, भारत से 2 डीएमयू ट्रेन पूर्व में खरीद कर ली है, जो नेपाल में कई महीनों से लगी हुई है. चालक, गार्ड और अन्य रेल कर्मियों को प्रशिक्षित किया जा चुका है. उम्मीद जताई जा रही है कि जल्द ही ट्रैक पर ट्रेनें दौड़ेंगी!

 

 

  1. 12 इलेक्ट्रिक बसों के बाद अब 24 जुलाई से पटना में दौड़ेंगी 50 CNG बसें
  • राजधानी पटना में इलेक्ट्रिक बसों के बाद अब सीएनजी बसें चलेगी। 24 जुलाई से इसकी शुरुआत होगी। 50 सीएनजी बसें पटना में चलायी जाएगी। जो सीसीटीवी से लैश होगी। इसमें वाटर कूलर सहित कई सुविधाएं भी होंगी।
  • CNG बसें बांकीपुर बस डिपो से दानापुर, बिहटा-आईआईटी-पटना और बिहटा रूट पर ये बसें चलेंगी। सीएनजी बसें 24 जुलाई से पटना में दिखने लगेगी। इसकी तैयारियों में विभाग जुटा हुआ है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार खुद इसे हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे।
  • इससे पहले परिवहन विभाग द्वारा पटना में 12 इलेक्ट्रिक बसें चलाई जा रही है। अब सीएनजी बसें पटना की सड़कों पर दौड़ेंगी। अलग-अलग रूटों पर चलने वाली सीएनजी बसों का किराया दूरी के हिसाब से तय होगा।
  • परिवहन विभाग के अनुसार, इन बसों का न्यूनतम किराया 5 रुपए और अधिकतम किराया 45 रुपए होगा। जिन रूटों पर बसों का संचालन होगा, उसमें बांकीपुर बस डिपो से दानापुर रूट, बिहटा- आईआईटी-पटना रूट और बिहटा- दानापुर रूट शामिल हैं।
  • बस डिपो से दानापुर रूट पर 20 बसें, बिहटा-आईआईटी-पटना रूट पर 20 बसें और बिहटा- दानापुर रूट पर 10 बसें चलेंगी। बसें सीसीटीवी, स्पीड गवर्नर, जीपीएस डिवाइस, वाटर कूलर और फायर सेफ्टी तकनीक से लैश होंगी।
  • पटना में सीएनजी की कीमत 9 रुपए प्रति लीटर है ।
  • परिवहन विभाग ने 12 जनवरी 2021 को एक आदेश जारी कर 1 अक्टूबर 2021 से पटना में डीजल ऑटो चलाने पर रोक लगा दी है। 31 जनवरी से ही यह रोक लगनी थी लेकिन कोरोना के कारण हुए लॉकडाउन के कारण इसकी अवधि बढ़ा दी गई।
  • नए आदेश के अनुसार पटना नगर निगम, दानापुर, खगौल और फुलवारी शरीफ नगर परिषद क्षेत्र में 30 सितंबर 2021 तक ही डीजल ऑटो का परिचालन हो सकेगा। इसके बाद डीजल ऑटो को पूरी तरह से बंद कर दिया जाएगा। परिवहन विभाग की माने तो पटना में चल रही सभी डीजल बसों को 2022 तक सीएनजी बसों में बदला जाएगा।

 

 

  1. डॉ रवींद्र नारायण सिंह बने वीएचपी (विश्व हिन्दू परिषद )के नए अध्यक्ष !
  • अस्थि सर्जन एवं पद्मश्री से सम्मानित डॉक्टर रवींद्र नारायण सिंह (VHP Chief Rabindra Narain Singh) को शनिवार को विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) का नया अध्यक्ष (New President of Vishwa Hindu Parishad) चुना गया। बिहार से ताल्लुक रखनेवाले सिंह अब तक संगठन के उपाध्यक्ष थे। उन्हें चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए 2010 में पद्मश्री मिला था, जो देश का चौथा सर्वोच्च नागरिक सम्मान है।
  • विहिप के संयुक्त महासचिव सुरेंद्र जैन ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हमारे न्यासी बोर्ड ने आज सर्वसम्मति से रवींद्र नारायण सिंह को हमारा अध्यक्ष चुना।’ सिंह ने विष्णु सदाशिव कोकजे की जगह ली है, जो अप्रैल 2018 से संगठन के अध्यक्ष थे।
  • जैन ने कहा, ‘कोकजे की आयु अब 82 साल है। वह विहिप अध्यक्ष के रूप में अपने दायित्वों से मुक्त होना चाहते थे। चुनाव उनकी इच्छाओं और हमारे संविधान के अनुरूप हुआ है।’ उन्होंने कहा कि सिंह जाने-माने अस्थि सर्जन हैं और वह सामाजिक, धार्मिक, चिकित्सा और विभिन्न अन्य क्षेत्रों में अपने योगदान के लिए जाने जाते हैं।

विश्व हिंदु परिषद का सांगठनिक ढांचा

– अध्यक्ष -पद्मश्री डॉ आर एन सिंह

-कार्याध्यक्ष – आलोक कुमार

– उपाध्यक्ष- (1) चंपतराय जी (2) अशोकराव चौगुले (2) जिवेश्वरजी मिश्र (4) डॉ विजयालक्ष्मि देशमाने (5) ओमप्रकाश सिंहल (6) गंगराजूजी (7) हुकूमचंदजी साँवला (8) सुशिलजी सराफ, थाईलैंड (9) रमेशजी जैन, जर्मनी

– महामंत्री-मिलिंद परांडे

-संगठन महामंत्री- विनायक राव देशपांडे

-केन्द्रीय कोषाध्यक्ष-रमेश कुमार गुप्ता

 

 

  1. बिहार में बन रहा तैरता हुआ सोलर पावर प्लांट !
  • नवीकरणीय ऊर्जा (Renewable energy) के क्षेत्र में भी बिहार एक नई कहानी लिखने की तैयारी कर रहा। राज्य में इसी वर्ष फ्लोटिंग यानी तैरता हुआ सोलर पावर प्लांट अस्तित्व में आ जाएगा।
  • एक नहीं दो-दो जगहों पर फ्लोटिंग सोलर पावर प्लांट बनाया जा रहा। इसके अतिरिक्त जल संसाधन विभाग के फुलवरिया व दुर्गावती डैम पर भी फ्लोटिंग सोलर पावर प्लांट लगाए जाने की तैयारी कर रहा।

देश में अभी इस तरह की क्षमता वाले फ्लोटिंग सोलर पावर प्लांट नहीं।

  • दरभंगा स्थित बिजली कंपनी के परिसर में स्थित तालाब में 6 मेगावाट क्षमता को तैरता सोलर पावर प्लांट बनाया जा रहा। ब्रेडा की देखरेख में बन रहे इस सोलर पावर प्लांट को तैयार किए जाने का काम पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू किया गया था। इस वर्ष दिसंबर में इसे बनकर तैयार हो जाने की उम्मीद है। इस सोलर पावर प्लांट से बनी बिजली को बिजली कंपनी खरीद लेगी।

सुपौल में 525 किलोवाट का फ्लोटिंग सोलर पावर प्लांट

  • सुपौल में 525 किलोवाट का एक फ्लोटिंग सोलर पावर प्लांट तैयार कराया जा रहा। यह भी तालाब में भी बन रहा। यह भी जल्द तैयार हो जाएगा।
  • जल संसाधन विभाग के दो डैम पर बड़ी क्षमता वाले सोलर पावर प्लांट
  • इसके अतिरिक्त ब्रेडा ने जल संसाधन विभाग के दो डैम पर बड़ी क्षमता वाले फ्लोटिंग सोलर पावर प्लांट बनाए जाने की योजना पर काम आगे बढ़ाया है। फुलवरिया डैम और दुर्गावती डैम पर फ्लोटिंग सोलर पावर प्लांट लगाए जा रहे। इसे 18 से 28 मेगावाट तक रखने की योजना है।

फ्लोटिंग सोलर पावर प्लांट की तकनीक

  • ब्रेडा के अधिकारी ने बताया कि फ्लोटिंग सोलर पावर प्लांट की तकनीक यह है कि सब कुछ पानी के नाव पर फिट होता है। जैसे-जैसे जहां धूप आती है यह बढ़ता रहता है। इस वजह से यह समस्या नहीं रहती कि सूर्य का प्रकाश नहीं मिल रहा। इससे तालाब का पानी भी साफ रहता है। सोलर पावर प्लांट के लिए जमीन की व्यवस्था का भी झंझट नहीं रहता।

 

 

  1. दरभंगा से लद्दाख का सफर हुआ आसान, लेह के लिए SpiceJet की विमान सेवा शुरू !
  • दरभंगा से लेह के बीच हवाई सेवा शुरू की जा रही है. लद्दाख में रहने वाले मिथिलावासियों के साथ वहां पर्यटन के लिहाज से जाने की इच्छा रखने वाले लोगों की यात्रा अब आसान हो जायेगी. स्पाइस जेट एयरलाइन्स 20 जुलाई से इस रूट पर वन स्टॉप हवाई सेवा शुरू कर रहा है. करीब 50 घंटे में लेह से भाया दिल्ली होते हुए यात्री दरभंगा एयरपोर्ट पर लैंड कर सकेंगे!
  • दिल्ली से सुबह 10 बजे दरभंगा के लिए दूसरी फ्लाइट मिलेगी, जो यात्रियों को दोपहर 12.50 बजे दरभंगा उतार देगी. यात्रियों के अच्छे रिसपांस को देखते हुए लगातार रुटों का विस्तार किया जा रहा है !
  • वहीं बिहार के गोपालगंज जिले के लिये भी खुशखबरी है. केंद्रीय नागर विमानन मंत्रालय ने सबेया हवाई अड्डे को रीजनल कनेक्टिविटी योजना ‘उड़े देश का आम नागरिक’ में शामिल कर लिया है. जिले के सबेया हवाई अड्डे को अब उड़ान की मंजूरी मिल गयी है. जिससे गोपालगंज समेत आस-पास के जिलों को भी इसका फायदा मिलेगा !
  • गोपालगंज से उड़ान का फायदा सीवान, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण और यूपी के कई जिलों के लोगों को भी मिलेगा. केंद्र सरकार द्वारा हथुआ प्रखंड स्थित इस हवाई अड्डे से उड़ान की मंजूरी देने से बिहार के विकास को और गति मिलेगी. साथ ही नागरिक सुविधाओं में बढ़ोतरी भी होगी !

 

  1. बिहार के एयरपोर्ट को वर्ल्ड क्लास जैसी सुविधा  !
  • बिहार के चार और मध्य प्रदेश एक रेलवे स्टेशन को वर्ल्ड क्लास बनाने की तैयारी है। यात्रियों की सुविधाओं को लेकर तमाम विकास कार्यों में भारतीय रेलवे जुटा है। इस पर मिशन मोड में काम चल रहा है। इसके अलावे कई रेलवे स्टेशनों पर एयरपोर्ट जैसी सुविधा देने की तैयारी है।

बिहार के चार रेलवे स्टेशन बनेंगे वर्ल्ड क्लास

  • गया, राजेंद्र नगर, मुजफ्फरपुर, बेगूसराय और मध्य प्रदेश के सिंगरौली रेलवे स्टेशनों को वर्ल्ड क्लास रेलवे स्टेशन बनाने की तैयारी है। काम भी शुरू हो चुका है। रेलवे का दावा है कि इन स्टेशनों पर रेल यात्रियों को एयरपोर्ट जैसी तमाम सुविधाएं मिलेंगी।

देश के 123 स्टेशनों का पुनर्विकास किया जाएगा

  • स्टेशन पुनर्विकास प्रोजेक्ट (Station Redevelopment) के लिए रेलवे ने देश में 123 स्टेशनों को चुना है। इसके तहत पुनर्विकास का कार्य पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (PPP Model) के तहत निजी क्षेत्र की भागीदारी से किया जा रहा है। इसमें पांच रेलवे स्टेशनों का चुनाव हुआ है। इसका मुख्य उद्देश्य यात्रियों को सिक्योरिटी बेहतर और सुखद यात्रा का अनुभव कराना है। स्टेशन को ग्रीन बिल्डिंग का रूप दिया जाएगा। रेलवे की जमीन पर मॉल और मल्टीपर्पस बिल्डिंग बनाया जाएगा। स्टेशन का विकास सौर ऊर्जा और हरित इमारत के हिसाब से किया जाएगा।

गया स्टेशन पर 173 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे

  • बिहार में गया की बात करें तो धार्मिक और पर्यटन दोनों दृष्टिकोण से महत्व है। पूर्व मध्य रेल के गया स्टेशन के पुनर्विकास की योजना बनाई गई है। पुनर्विकास के बाद गया स्टेशन पर यात्रियों को एयरपोर्ट जैसी विश्वस्तरीय सुविधाएं मिलेंगी। रेल भूमि विकास प्राधिकरण ने गया स्टेशन के पुनर्विकास से जुड़े इस काम को पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मोड पर पूरा करने का फैसला किया है। गया स्टेशन पर 173 करोड़ रुपए खर्च करने की योजना है।

 

  1. बिहार में 160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ेंगी ट्रेनें !
  • बिहार-झारखंड से गुजरने वाली ट्रेनें हावड़ा-दिल्ली रेलमार्ग पर 160 किमी की रफ्तार से दौड़ेंगी। इसके लिए ‘मिशन रफ्तार’ के तहत इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार के लिए तेजी से कार्य हो रहे हैं।
  • रेलवे दिल्ली-हावड़ा रूट पर उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड होते हुए दिल्ली व पश्चिम बंगाल के मध्य तीव्र और सुरक्षित रेल कनेक्टिविटी प्रदान करेगा।
  • पूर्व मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि पूमरे के धनबाद और मुगलसराय रेल मंडल में ग्रैंड कॉर्ड रेलखंड पर ट्रेनों का परिचालन 130 से बढ़ाकर 160 किलोमीटर प्रतिघंटा की गति से करने की दिशा में कार्य जारी है।
  • 15 सौ किमी की ग्रैंड कॉर्ड रेलखंड पर 160 किमी प्रतिघंटा की गति के अनुकूल बनाने के लिए ढांचागत सुधार पर अनुमानित रूप से 6975 करोड़ रुपये खर्च होंगे। धनबाद मंडल के प्रधान खांटा से मुगलसराय तक 417 किमी लंबे रेलमार्ग पर 2050 करोड़ रुपये खर्च होंगे। मेंटेनेंस कार्य पर चालू वित्त वर्ष में पूर्व मध्य रेलवे को इस परियोजना के मद में 408 करोड़ रुपये का आवंटन किया है।
  • इस परियोजना के पूर्ण होने के बाद दिल्ली से हावड़ा की दूरी मात्र 12 घंटे में तय की जा सकेगी। इससे यात्रा के समय में काफी बचत होगी।
  • ढांचागत सुधार के क्रम में मिट्टी के कार्य, थीक वेब स्वीच आदि का निर्माण कराया जा रहा है। इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग व यूरोपियन ट्रेन कंट्रोल सिस्टम (ईटीसीएस) मानक स्थापित किए जाएंगे। इनमें रेलवे ट्रैक का नवीनीकरण, रेल पुलों का उन्नयन, सिग्नल प्रणाली का आधुनिकीकरण जैसे कार्य कार्य भी शामिल हैं।

 

 

  1. गोपालगंज में एयरपोर्ट को मिली मंजूरी।
  • गोपालगंज के लोग भी अब फ्लाइट से उड़ान भर सकेंगे।
  • हथुआ में स्थित सबेया हवाई अड्डे के चालू होने की उम्मीद बढ़ गई है। केंद्रीय नागर विमानन मंत्रालय ने सबेया हवाई अड्डा को रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम ‘उड़े देश का आम नागरिक’ में शामिल कर लिया है।
  • इस योजना के तहत सबेया हवाई अड्डा को स्वीकृति मिलने से इस हवाई अड्डा से हवाई यातायात शुरू होने की उम्मीद बढ़ गई है। सबेया हवाई अड्डा चालू होने पर गोपालगंज के साथ ही आसपास के पांच जिले के लोगों को लाभ होगा। पांच जिले के लोगों को हवाई यातायात की सुविधा मिलने लगेगी।
  • सबेया हवाई अड्डे के चालू हो जाने से गोपालगंज के साथ ही पड़ोस के सिवान, छपरा, पूर्वी चंपारण व पश्चिमी चंपारण जिले के लोगों को लाभ मिलेगा। उनके लिए भी हवाई सफर करना आसान हो जाएगा।
  • हथुआ प्रखंड के स्थित सबेया हवाई अड्डा को चालू कराने के लिए लोग काफी समय से आवाज उठा रहे थे। अभी जिले के लोगों को हवाई सफर के लिए उत्तर प्रदेश के गोरखपुर या पटना जाना पड़ता है।
  • सबेया हवाई अड्डा को जीर्णोद्धार हो जाने से खाड़ी देश में आने जाने वाले लोगों को घरेलू स्तर पर ही उड़ान सेवा का लाभ मिलेगा। जिससे जिले में विकास की गति तेज होगी तथा पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा।

 

  1. पटना के महावीर मंदिर में विज्ञापन के जरिये होगी पुजारियों की नियुक्ति !
  • पटना जंक्‍शन के पास स्थित महावीर मंदिर पर हनुमानगढ़ी अयोध्या के दावे के बाद महावीर मंदिर न्यास के सचिव आचार्य किशोर कुणाल ने मंदिर में पुजारियों की नियुक्ति को लेकर विज्ञापन निकालने व साक्षात्कार और अनुभव के आधार पर उनकी नियुक्ति करने की बात कही है।
  • उन्होंने बताया कि न्यास की ओर से बैठक के बाद पुजारी के लिए विज्ञापन निकाला जाएगा। नियमानुसार चयन कर सेवा कार्य में लगाया जाएगा। महावीर मंदिर पटना ही उत्‍तर भारत के सबसे धनी मंदिरों में शुमार है। मंदिर को होने वाली आमदनी से कई अस्‍पतालों और सामाजिक सेवा कार्यों का संचालन होता है।

मुख्‍य पुजारी के लिए ये होनी चाहिए योग्‍यता

  • आचार्य कुणाल के मुताबिक न्यास समिति को महावीर स्थान के पदाधिकारियों एवं कर्मचारियों को नियुक्त करने, निलंबित, निष्कासित व पदच्‍युत करने या अन्य दंड देने का अधिकार है। मंदिर के मुख्य अर्चक-परमाचार्य यानी मुख्य पुजारी की नियुक्ति न्यास समिति सुनिश्चित करेगी। इसके लिए मुख्य पुजारी अच्‍छे नैतिक चरित्र का हो, आपराधिक रिकार्ड नहीं हो। वे आचार्य या प्रतिष्ठित संत हों।

35 साल होनी चाहिए उम्र

  • आचार्य किशोर कुणाल ने बताया कि मंदिर के पुजारी की उम्र 35 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। वे रामानंद संप्रदाय के बाल ब्रह्मचारी हों एवं किसी आश्रम से दीक्षित होने चाहिए। मंदिर में आठ पुजारियों की जरूरत होती है जिसमें एक मुख्य पुजारी होता है। एक दलित पुजारी भी होगा। मुख्य पुजारी के लिए उम्र की कोई बाध्यता नहीं होगी। उन्हें अनुभव के आधार पर मंदिर में रखा जाएगा। मुख्य पुजारी का शारीरिक रूप से स्वस्थ और बाल ब्रह्मचारी होना जरूरी है।

मंदिर के पुजारी को मिलेंगी ये सुविधाएं

  • मंदिर के पुजारी को रहने-खाने, कपड़े के साथ 10 हजार रुपये प्रतिमाह पारिश्रमिक दिया जाता है। पुजारी चाहें तो स्वे’छा से सेवा कार्य से मुक्त हो सकते हैं। मंदिर के मुख्य पुजारी को भी सारी सुविधाएं मिलती हैं। पारिश्रमिक के रूप में इन्हें 20 हजार रुपये दिए जाते हैं। आचार्य ने बताया मुख्य पुजारी रघुनाथ दास हैं जिन्हें हर प्रकार की सुविधा दी जाती रही है।

 

  1. पश्चिम चंपारण में खुलेगा विधि विज्ञान प्रयोगशाला !
  • बेतिया (पश्चिम चंपारण), जासं। जिले में अपराध पर लगाम लगाने तथा घटनाओं में त्वरित निष्कर्ष पर पुलिस को पहुँचने में हो रही विलंब को ध्यान में रखकर पश्चिम चंपारण जिले के मुख्यालय बेतिया में विधि विज्ञान प्रयोगशाला खोलने की स्वीकृति मिली है।
  • इस प्रस्ताव को स्वीकृति मंत्री परिषद् ने दी।  पर्यटन मंत्री सह नौतन विधायक नारायण प्रसाद ने कहा कि पश्चिमी चम्पारण में किसी अप्रिय घटना की जांच में पुलिस को असुविधा हो रही थी।
  • सैंपल जाँच के लिए मुजफ्फरपुर या पटना में भेजना पड़ता था, जिससे पुलिस को अग्रेतर कार्रवाई करने में विलंब होती थी।
  • इसी को ध्यान में रखते हुए बिहार सरकार ने निर्णय लिया है कि बेतिया में विधि विज्ञान प्रयोगशाला की स्थापना किया जाए, ताकि दोषी अपराधियों को त्वरित दंडित कराने में पुलिस को सहयोग मिल सके।
  1. RJD की अनूठी पहल, ‘लालू की नाव और तेजस्वी की पतवार !
  • मोतिहारीः कोरोना काल में कोई भूखा ना सोए इसके लिए आरजेडी की ओर से ‘लालू की रसोई’ की शुरुआत की गई थी !
  • इसी तरह अब बाढ़ में भी लोगों की मदद करने के लिए पार्टी आगे आई है. आरजेडी के नेताओं ने एक नई पहल शुरू की है वह है ‘लालू की नाव और तेजस्वी की पतवार’. आरजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू यादव के निर्देश पर इस पहल की शुरुआत की गई है !
  • अब मोतिहारी के बाढ़ग्रस्त इलाकों में इस नाव के जरिए वहां के लोगों की मदद की जाएगी. बाढ़ में फंसे लोगों के पास आने-जाने के लिए कोई सुविधा नहीं है. वैसे इलाकों में लालू की नाव चलेगी. आरजेडी के नेताओं ने बीते सोमवार को एक दर्जन से अधिक नावों को मोतिहारी व शिवहर के बाढ़ग्रस्त इलाकों में भेजा है !
  • नाव की लंबाई 25 फीट चौराई आठ फीट है. इस नाव को आरजेडी के कद्दावर नेता सैयद फैसल अली ने लालू यादव के निर्देश पर जिले के जरूरतमंद लोगों के लिए दिया है. अब भी जिले के ऐसे सैकड़ों गांव है जहां का संपर्क पथ पूरी तरह से कटा हुआ है, निश्चित रूप से वहां की जनता को इससे फायदा होगा !

 

  1. औरंगाबाद ( बिहार ) में प्लेस ऑफ सेफ्टी !
  • बिहार के औरंगाबाद जिले के प्लेस ऑफ सेफ्टी (Place of Safety) से 6 बाल कैदी वार्ड का शीशा तोड़कर फरार हो गए. जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र (Mufassil Police Station) के बभंडीह स्थित प्लेस ऑफ सेफ्टी की घटना बताई जा रही है.
  • जो बाल कैदी फरार हुए हैं उनमें 3 गया के, एक जहानाबाद के, एक बक्सर के तथा एक पटना के हैं. कैदियों के फरार होने की जानकारी जब प्लेस ऑफ सेफ्टी से जुड़े कर्मियों व अधिकारियों को लगी तो अफरा-तफरी मच गई और इसकी छानबीन की जाने लगी !
  • जांच के क्रम में पता चला कि ये बाल कैदी बाथरूम की खिड़की का शीशा तोड़ बाहर निकले और फिर बेडशीट के सहारे बाउंड्री से बाहर हो गए. औरंगाबाद जिले के एसडीओ डॉ प्रदीप कुमार, एसडीपीओ अनूप कुमार, सहायक बाल कल्याण पदाधिकारी व अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया !
  1. 17. नीतीश कैबिनेट की बैठक में 7 एजेंडों पर मुहर, बिहार विधि पदाधिकारी नियमावली-2021 को मंजूरी !
  • पटनाः मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की मीटिंग (Cabinet Meeting) में 7 एजेंडों पर मुहर लगी है
  • बैठक में सदर अस्पताल पूर्णिया को राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल में समाहित करने का निर्णय लिया गया है. !
  • वहीं, बिहार विधि पदाधिकारी नियमावली, 2021को स्वीकृति दे दी गई है. वहीं बिहार विधि पदाधिकारी नियमावली 2021 को मंजूरी मिल गई है !
  • इसके अलावा नेशनल मिशन ऑफ एग्रीकल्चर एक्सटेंशन एंड टेक्नोलॉजी के अंतर्गत सबमिशन एग्रीकल्चरल एक्सटेंशन योजना के लिए बामेती और आत्मा को वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए 120 करोड़ रुपए की स्वीकृति दी गई है !
  • राज्य के चीनी उद्योगों के समक्ष आर्थिक संकट को देखते हुए चीनी मिलों को आर्थिक पैकेज के रूप में 2020-21 में क्रय करने पर क्षेत्रीय विकास परिषद कमीशन के दर का 80 प्रतिशत से घटाकर 0.20% करने की स्वीकृति दी गई है !
  • औरंगाबाद जिला अंतर्गत रफीगंज अंचल के बिहार सरकार की भूमि 23,90,423 रुपए के भुगतान पर डेडीकेटेड फ्रेट कोरिडोर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड रेल मंत्रालय को देने की स्वीकृति दी गई है !
  • जल जीवन हरियाली अभियान के अधीन गंगाजल उद्योग योजना में 27 एकड़ वन भूमि और 315.18 एकड़ वन भूमि जमीन पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग पटना को निशुल्क स्थानांतरित करने की स्वीकृति दी गई है. और खिजरसराय गया प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा पदाधिकारी डॉ राम रंजन शर्मा को लगातार अनुपस्थित करने को लेकर बर्खास्त करने की अनुमति दे दी गई है !

 

  1. कैदी होंगे डिजिटल साक्षर, देश में पहली बार बांका मंडल में की गई शुरूआत !
  • बांका। गंभीर अपराध कर दिया, सजा भी भुगत रहे हैं… लेकिन उस पर अब अफसोस होने लगा है। काश! पढ़े-लिखे होते तो तो शादय यह अपराध नहीं होता। कुछ हद तक ऐसे कामों से बच जाते और अच्‍छा जीवन जीते। कुछ ऐसा ही विचार मंडल कारा बांका में हत्‍या, लूट, डकैती सहित अन्‍य गंभीर अपराधों में सजा भुगत रहे कैदियों के मन में उठ रहा है।
  • उनके इन विचारों को सकारात्‍मक रूप देने के लिए मंडल कारा प्रशासन ने कवायद शुरू कर दी है। देश में पहली बार बांका जेल में कैदियों को डिजिटल साक्षर बनाया जा रहा है। इसकी शुरुआत गुरुवार से जेल अधीक्ष सुजीत राय, उपाधीक्षक प्रभात कुमार आदि ने की।
  • इसके तहत भारत सरकार के सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत संचालित ग्रामीण डिजिटल साक्षरता प्रशिक्षण अभियान से बांका मंडल कारा को जोड़ा गया है। जेल अधीक्षक ने बताया कि आज के जमाने में केवल साक्षर होना ही काफी नहीं है। यह समय डिजिटल साक्षर होने का है। इससे आप हर तरह की सरकारी योजनाओं के बारे में जानकारी और लाभ ले सकते हैं। साथ ही आप शारीरिक और मानसिक परेशानी से भी बच सकते हैं !
  • जेल में प्रशिक्षण के लिए 25-25 कैदियों का बैच तैयार किया गया है। 14 से 60 वर्ष के साक्षर-असाक्षर सभी प्रतिभागी बन सकते हैं। जेल में अभी जेल में कुल 950 बंदी हैं। इसमें 33 महिला बंदी है। यह प्रशिक्षण दस दिनों तक चलेगा।

सभी कैदियों का बनेगा डिजिटल लाकर

  • प्रशिक्षण के बाद सभी कैदियों का डिजिटल लाकर बनेगा। साथ ही प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा। डिजिटल लाकर में वह अपना प्रमाण पत्र सुरक्षित रख सकते हैं। इसका इस्‍तेमाल वह जरूरत पड़ने पर कभी भी कर सकते हैं। प्रशिक्षण के साथ बंदी विधिवत सीएसी यानी कामन सर्विस सेटर से पंजीकृत हो जाएंगे। जेल से निकलने के बाद उन्हें ग्रामीण क्षेत्र में रोजगार करने के लिए सीएससी खोलने में भी मदद की जाएगी।

 

 

 

 

 

  1. कामेश्वर नाथ दक्षिण बिहार केंद्रीय विवि के कुलपति होंगे !
  • राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 12 केंद्रीय विश्वविद्यालयों के कुलपतियों की नियुक्ति को मंजूरी दे दी है।
  • आधिकारिक आदेश के मुताबिक, सत प्रकाश बंसल को हिमाचल प्रदेश केंद्रीय विश्वविद्यालय का कुलपति बनाया गया है।
  • कामेश्वर नाथ सिंह दक्षिण बिहार केद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति बनाए गए हैं।
  • संजीव जैन केंद्रीय विश्वविद्यालय जम्मू के कुलपति बनाए गए हैं।
  • इनके अलावा प्रोफेसर टंकेश्वर कुमार केंद्रीय विश्वविद्यालय हरियाणा के कुलपति नियुक्त किए गए हैं।
  • प्रोफेसर के. भूषण दास को झारखंड केंद्रीय विश्वविद्यालय का कुलपति, प्रोफेसर बी. सत्यनारायण को कर्नाटक केंद्रीय विश्वविद्यालय, प्रोफेसर एम. कृष्णन को तमिलनाडु केंद्रीय विश्वविद्यालय में पदस्थापना दी गई है। डॉ. बी.जे. राव को हैदराबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय, डॉ. आलोक कुमार चक्रवाल को गुरु घासीदास विश्वविद्यालय, प्रोफेसर सैय्यद ए. हसन को मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय और प्रोफेसर एन. लोकेंद्र सिंह को मणिपुर केंद्रीय विश्वविद्यालय का कुलपति बनाया गया है।
  1. मधुबनी के लौकहा मेंबनेगा सीमा शुल्क कार्यालय !
  • भारत सरकार भारत- नेपाल सीमा पर लौकहा में सीमा शुल्क कार्यालय बनाएगी। विदेश मंत्रालय से स्वीकृति मिलने के बाद इसकी प्रक्रिया तेज हो गई है। जिला प्रशासन की ओर से करीब 54 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया जा रहा है।
  • जिला प्रशासन का राजस्व विभाग जमीन अधिग्रहण की पूरी प्रक्रिया का निगरानी कर रहा है। अधिकारियों के अनुसार भारत-नेपाल बोर्डर के पास ही भारतीय सीमा में सीमा शुल्क का कार्यालय खोला जाएगा। सीमा शुल्क कार्यालय खुल जाने के बाद बिना शुल्क चुकाए मालवाहक वाहन प्रवेश नहीं कर पाएंगे। कार्यालय खुलने के बाद खुटौना प्रखंड के लौकहा बोर्डर पर सख्ती बढ़ जाएगी।
  • नेपाल में बन चुका है सीमा शुल्क कार्यालय :अधिकारियों के अनुसार भारत-नेपाल के लौकहा सीमा पर नेपाल ने अपने क्षेत्र में सीमा शुल्क कार्यालय तैयार कर लिया है। अब भारत में कार्यालय खोलने की तैयारी की जा रही है। कार्यालय शुरू हेने के बाद बोर्डर पर धड़ल्ले से हो रही आवाजाही पर पाबंदी लगेगी।
  • लौकहा में स्थित भारत-नेपाल सीमा में भारत सरकार की ओर से सीमा शुल्क कार्यालय बनाया जाएगा। इसके लिए जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया चल रही है। तीन खेसरा की 54 एकड़ जमीन का चिन्हित किया गया है जिसका अधिग्रहण किया जाएगा।
Categories: Blog

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Call Now ButtonCall Now